स्मरणांजलि एवं आनन्द सरगम

Brahmakumris

सादर प्रकाशनार्थ
आनन्द सरगम में शिक्षाप्रद नृत्यनाटिका का मंचन किया गया
स्मरणांजलि में ब्रह्माकुमार ओमप्रकाश भाईजी को श्रद्वांजलि दी गई

इंदौर, 24 दिसम्बर 2018 । प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्व विद्यालय के द्वारा संचालित शक्तिनिकेतन- दिव्य जीवन कन्या छात्रावास के वार्षिकोत्सव के उपलक्ष्य में आयोजित सांस्कृतिक संध्या ” आनन्द सरगम ” में बालिकाओं द्वारा पर्यावरण संरक्षण, समाजिक एवं मानवीय मूल्यों को अपनाने की प्रेरक संदेश देती प्रस्तुतियां मंचित की गई।
बास्केटबाॅल सटेडियम में कल संध्या आयोजित ”आनन्द सरगम” में प्रकृति के अंधाधंुध दोहन से पर्यावरण को हो रही क्षति को मार्मिक ढ़ंग से प्रस्तुत किया गया। यह मनुष्य की सोच में गिरावट का ही परिणाम है कि स्वर्ण काल में जो प्रकृति दासी की रुप में सेवा करती थी मनुष्य की सोच में गिरावट से वहीं प्रकृति आज विनाशकारी तूफान, प्राकृतिक प्रकोप के रुप में दुखदायी हो गई है। इसके माध्यम से संदेश दिया गया कि अपनी सोच को सकारात्मक बनाये। ऐसे ही शिक्षाप्रद एवं मनोरंजन प्रस्तुति ” रंग में भंग” हास्य नाटिका के माध्यम से यह संदेश दिया गया कि आध्यात्म एवं मेडिटेशन के हमें घोर निराशा के अंधकार से बाहर निकालता हैं इसके अलावा ” अनोखा देश” नामक नृत्य नाटिका में देशभक्ति पूर्ण गीतों पर अधारित नृत्य ”स्वर्णिम युग की ओर ” तथा कई हैरत अंगेज करतबों से युक्त सीढ़ी नृत्य भी बालिकाओं ने प्रस्तुत किया।
कार्यक्रम के पहले प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्व विद्यालय के इंदौर झोन के पूर्व निदेशक एवं मीडिया प्रभाग के पूर्व अध्यक्ष दिंवगत ब्रह्माकुमार ओमप्रकाश भाईजी की तृतीय पुण्य तिति के उपलक्ष्य में आयोजित ” स्मरणांजलि ” में भाईजी के व्यक्तित्व एवं कृतिव पर वक्ताओं ने अपने संस्मरण सुनवाये।
ज्ञानमृत मासिक पत्रिका के संपादक ब्रह्माकुमार आत्मप्रकाश जी ने कहा कि भाईजी उनके सहपाठी थे। उन्होनें ही 1957 में ब्रह्माकुमारी संस्था के तत्व ज्ञान से उन्हें अवगत कराया। भाईजी ने कई नवीनता युक्त सेवाओं का सूत्रपात भी किया। दिव्य जीवन कन्या छात्रावास की स्थापना भी विश्व में एकमात्र है जहां पर कि 500 से अधिक कन्याएं प्रशिक्षित होकर ब्रह्माकुमारी के रुप में विश्व में सेवारत रही है।
केन्या, नैरोबी से आयी ब्रह्माकुमारी वेदान्ती दीदी ने भाईजी की याद में विशेष राजयोग मेडिटेशन के प्रकम्पन्न फैलाये।
इन्दौर झोन की निदेशिका ब्रह्माकुमारी कमला दीदी जी ने कहा कि भाईजी बहुत ही ईश्वरीय निष्ठावान, साहसी तपस्वी थे। उन्होंने बहुत ही त्याग एवं मेहनत से इंदौर झोन को आगे बढाया है। इंदौर झोन क्षेत्रीय समन्वयक ब्रह्माकुमारी हेमलता ने भाई जी के व्यक्तित्व का परिचय देते बताया कि उनका जीवन बहुत ही मूल्यनिष्ठ और तपोनिष्ठ था। वे लोगों की विशेषताओं को पहचान उन्हें ईश्वरीय सेवाओं के निमित्त बनाते थे।
कार्यक्रम में बडी़ संख्या में इन्दौर के गणमान्य व्यक्ति उपस्थित थे जिनमें पूर्व महापौर डा. उमाशशि शर्मा, समाज सेविका आशा विजयवर्गीय , बाबू भाई महिंद पूरवाला , मेडिकेप्स विश्व विद्यालय के कूलपति रमेश मित्तल , अनिल भंड़ारी आदि उपस्थित थे। कार्यक्रम का संचालन बिलासपुर की ब्रह्माकुमारी मजू दीदी ने किया।