Indore OSB- इंदौर ओमशांति भवन में विश्व यादगार दिवस के अवसर पर आयोजित कार्यक्रम- Program on World Day of Remembrance for Road Traffic Victims

यातायात एवं परिवहन हरेक मनुष्य के जीवन की अनिवार्य आवश्यकता है, सभी का लक्ष्य होता है कि हम सही समय पर आराम से अपने गन्तव्य तक पहुंच जायें, लेकिन अचानक रोड़ एक्सीडेंट में घायल हो जाता या मृत्यु का शिकार हो जाना यह जीवन की बहुत बड़ी विड़म्बना है। वर्तमान समय अच्छी सड़के, अच्छे वाहन होने के बाद भी रोड़ एक्सीडेंट दिनों दिन बढ रहे हैं जिससे पूरे विश्व में प्रतिदिन लाखों लोगों की मौत हो जाताी है या शारीरिक रुप से क्षतिग्रस्त हो जाते हैं इन दुर्घटनाओं का 90 प्रतिशत कारण मानवीय भूल 10 प्रतिशत अन्य कारण से होता है।  जिसमें सबसे बड़ी भूल सड़क सुरक्षा के नियमों के प्रति जागृत ना होना है। इन दुर्घटनाओं में कमी लाने के लिये मानवीय प्रवृत्ति को बदलना अति आवश्यक है। सड़क पर मानसिक तनाव की स्थिति में अशांत मन से जल्दबाजी में एक दूसरे से आगे जाने की होड में ट्रेफिक नियमों को अनदेखा कर गाड़ी चलायेंगे तो निष्चित ही दुर्घटना का शिकार होंगे। अतः अपने अमूल्य जीवन की रक्षा के लिये सड़क सुरक्षा नियमों का पालन करते हुए। शंात मन से वाहन चलाये अपने सहयात्रियों प्रति सद्भाव रखें तो यात्रा सुखद और आसान होगी । माता पिता अपने बच्चों को अच्छी बाईक, अच्छे कार के साथ साथ संस्कार भी देंवे तो जीवन रुपी यात्रा में भी सफलता प्राप्त होगी।

उक्त विचार ब्रह्माकुमारीज के यातायात एवं परिवहन प्रभाग द्वारा  “ सुखद एवं सुरक्षित यात्रा “  विषय पर आयोजित आॅनलाईन वेबिनार में प्रभाग की राष्ट्रीय उपाध्यक्षा ब्रह्माकुमारी दिव्यप्रभा -मुंबई ने उच्चारे कल संध्या 6 बजे ज्ञानशिखर ओमशान्ति भवन में सड़क दुर्घटना में शरीर छोड़ने वालों की आत्मिक शांति एवं घायलों को मानसिक संबल देने के लिये “विश्व यादगार दिवस“ मनाया गया।

ग्रुप ट्रेनिंग अकादमी स्कोडा आॅटो वोक्सवेगन प्रा. लि. इंडिया के अध्यक्ष भ्राता मुकुल चैधरी, पुंणे ने पावर पाईंट प्रेजेण्टेशन के द्वारा बताया कि सड़क पर वाहन चलाते समय किन किन बातों का ध्यान रखें। लंबे समय तक गाड़ी चलानी है तो बीच बीच में शरीर को आराम दे तथा मन को श्ंाात रखने के लिये अच्छे गीत म्युजिक आदि सुनें। स्वयं के साथ साथ अपने वाहन से भी प्यार करें। सकारात्मक नजरिया रख गुड फीलिंग के साथ सबकी शुभ भावना और शुभ कामना लेकर चले तो यात्रा आसान हो जायेगा।

इस अवसर पर इंदौर जोन की मुख्य क्षेत्रीय समन्वयक ब्रह्माकुमारी हेमलता दीदी ने कहा कि वाहन चालक कितना भी शिक्षित और प्रतिशिक्षित क्यों न हो यदि उसका मन पर नियन्त्रण नहीं है तो गाड़ी की स्टियरिंग पर भी नियन्त्रण होना असंभव है। जिस प्रकार यात्रा में आवश्यक सामान ही लेकर चलते हैं उसी प्रकार मन के आवश्यक बोझ तनाव, चिंता, परेशानी सब ईश्वर पिता को सौंप दे। उन्हें अपना साथी बनावें। तनाव से बचने के लिये शराब व्यसन आदि का सेवन न करें। आपने बताया कि राजयोग मेडिटेशन द्वारा सब व्यसनों से मुक्त होकर मन की एकाग्रता बढती है जिससे हमारी कार्यक्षमता में वृद्धि होती है।  जिस प्रकार हम अपनी सुरक्षा के लिए नियमों का पालन करते हुए रोड़ पर चलते हैं, उसी प्रकार जीवन यात्रा में नैतिक मूल्यों को साथ लेकर चलें तो जीवन यात्रा भी आसान हो जायेगा।

इंदौर के ट्रेफिक ड़ी. एस. पी. संतोष उपाध्यक्ष ने कहा कि रोड़ पर दो पहिया वाहन और चार पहिया वाहन चलाने के जितनेे नियम हैं उसकी जानकारी होना आवष्यक है आपने दो पहिया और चार पहिया वाहन चलाने हेतु बने नियमों की जानकारी देते हुए कहा कि इन नियमों का गंभीरता से पालन करेंगे तो एक्सीडेन्ट से बचे रहंेगे। बिना हेलमेट पहने दो पहिया वाहन चलाना, मोबाईल फोन पर बातें करते हुए वाहन चलायेंगे, तेज गति से वाहन चलायेंगे तो रोड़ एक्सीडेन्ट अवश्य होगा।

 ट्रेफिक थाना प्रभारी दिलीप सिंह परिहार ने नियमों का पालन करने की शपथ दिलाई। कैलाश बाहेती संचालक रुकमणी मोटर्स एवं रमेश आनंद – डीलर निशान, फाॅक्सवेगन आॅटो मोबाईल इंदौर ने अपनी शुभकामनायें दी। राजयोग की विशेष कमेन्ट्री द्वारा सड़क दुर्घटना में घायल लोगों को एवं शोक संतप्त परिवारों को मानसिक संबल देते हुए शांति के प्रकम्पन फैलाये तथा मृत आत्माओं की  शांति के लिये दीप जलाकर श्रद्धांजली दी गई। कार्यक्रम का संचालन ब्रह्माकुमारी अनिता ने दिया।